उपराष्ट्रपति ने कहा राजनीतिज्ञ ही नहीं दूरदृष्टा धर्मवेत्ता और स्टेट्समैन योगी आदित्यनाथ


*गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह का हुआ भव्य आयोजन


*गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए उपराष्ट्रपति


*पर्सन ऑफ एक्शन के प्रतीक बन चुके हैं योगी आदित्यनाथ 


*पूरी दुनिया में लॉ एंड ऑर्डर का रोल मॉडल बन चुका है यूपी


*यूपी आज प्रिमियम कैटेगरी के उद्योगों का फेवरेट डेस्टिनेशन


*मुख्यमंत्री से प्रेरणा लें विद्यार्थी


*उपराष्ट्रपति ने कहा राजनीतिज्ञ ही नहीं, दूरदृष्टा, धर्मवेत्ता और स्टेट्समैन योगी आदित्यनाथ


              


*मुख्यमंत्री ने उपाधि प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को दी शुभकामनाएं


*ज्ञान, धर्म और टीम वर्क की सीख देते हैं गौतम बुद्ध


*शून्य से शिखर की आदर्श प्रतिमूर्ति हैं उप राष्ट्रपति, युवाओं को इनसे लेनी चाहिए प्रेरणा


*समाज के प्रति कृतज्ञता का भाव रखें


*देश, काल, परिस्थितियों के हिसाब से बदलती रहती है उपासना पद्धति, धर्म शाश्वत है


*समस्याओं को स्वीकारना चाहिए, सत्य बोलो और धर्म के मार्ग पर चलो


                     

*गौतम बुद्ध नगर (अमन इंडिया ) । जनपद गौतम बुद्ध नगर में स्थित गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय ग्रेटर नोएडा का आज रविवार को दीक्षांत समारोह संपन्न हुआ, जिसमें बतौर मुख्य अतिथि उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ जी उपस्थित रहे, जिनका उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री/कुलाधिपति गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय योगी आदित्यनाथ जी ने दीक्षांत समारोह में उपस्थित रहकर स्वागत एवं अभिनंदन किया। आयोजित दीक्षांत समारोह में विश्वविद्यालय के 8 विद्यार्थियों को गोल्ड मेडल प्रदान किया गया। वहीं 8 संकायों के विद्या वाचस्पति, स्नातकोत्तर और स्नातक के 7914 छात्र-छात्राओं को उपाधियां प्रदान की गईं। इसके अलावा म्यांमार, वियतनाम, लाओस, थाईलैंड और ताइवान के पांच विदेशी छात्रों को भी उपाधियां प्रदान की गईं।

      दीक्षांत समारोह के अवसर पर मुख्य अतिथि उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ जी ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुये कहा कि मेरे लिये वो एक सुखद दिन था, जब मुझसे कहा गया कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आपसे बात करना चाहते हैं। मुख्यमंत्री ने सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में नाम हासिल किया है। योगी आदित्यनाथ आज पर्सन ऑफ एक्शन के प्रतीक बन चुके हैं। हम सब जानते हैं कि यूपी में पहले क्या हालात थे। कानून व्यवस्था और विकास की दृष्टि से ये प्रदेश सबकी चिंता का विषय था। मगर आज यूपी देश ही नहीं दुनिया में लॉ एंड ऑर्डर को लेकर रोल मॉडल बन चुका है। उन्होंने कहा कि लंबे समय तक वकालत के पेशे में रहने के कारण उनका उद्योग जगत से गहरा नाता रहा है और उन्हें ये बात कहने में खुशी होती है कि यूपी आज प्रिमियम कैटेगरी के उद्योगों के लिए फेवरेट डेस्टिनेशन बन चुका है। 

      उप राष्ट्रपति जी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि दीक्षांत समारोह में वो जो कहना चाहते थे उसे मुख्यमंत्री ने उनसे भी बेहतर ढंग से कहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री का भाषण किसी राजनीतिक व्यक्ति का नहीं बल्कि एक धर्मवेत्ता, एक स्टेट्समैन, एक शिक्षाविद और दूरदृष्टा व्यक्ति का भाषण था। उप राष्ट्रपति ने मुख्यमंत्री के भाषणों को केवल भाषण नहीं बल्कि सीएम योगी के वर्तमान कार्यकलापों की झलक बताया। उन्होंने कहा कि एग्जाम्पल हमेशा स्टेटमेंट से बेहतर होता है। मुख्यमंत्री का भाषण वर्तमान में उनके शासनकाल में दिखता है। योगी आदित्यनाथ आज पर्सन ऑफ एक्शन के प्रतीक बन चुके हैं। आप सभी को इनसे प्रेरणा लेनी चाहिए। उप राष्ट्रपति ने गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय को नालंदा और तक्षशिला विश्वविद्यालयों के स्तर तक पहुंचाने के लिए मुख्यमंत्री से मांग भी की साथ ही ये विश्वास भी जताया कि उनकी मांग को मुख्यमंत्री के नेतृत्व में शत-प्रतिशत पूरा किया जाएगा। उन्होंने विद्यार्थियों से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, क्वांटम कम्प्यूटिंग में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया और कहा कि आने वाले समय में भारत तकनीकी का हब बनने जा रहा है। उप राष्ट्रपति ने कॉर्पोरेट सेक्टर से देश के शिक्षण संस्थाओं में निवेश के लिए कहा। उन्होंने कहा कि डिफेंस प्रोडक्शन के मामले में उत्तर प्रदेश बड़ा हब बनने की राह पर है। उन्होंने विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को नए संसद भवन आने का निमंत्रण भी दिया। साथ ही उपाधि प्राप्त करने वाले विद्याथियों से आह्वान किया कि वे नेशन फर्स्ट की भावना के साथ अपनी जिंदगी में आगे बढ़ें।

      मुख्यमंत्री/कुलाधिपति योगी आदित्यनाथ जी ने अपने उद्बोधन में उप राष्ट्रपति द्वारा खराब मौसम के बावजूद सड़क मार्ग से समय से पहले ही समारोह में पहुंचने को युवाओं के लिए प्रेरणादायी बताया। उन्होंने उप राष्ट्रपति को शून्य से शिखर की आदर्श प्रतिमूर्ति बताया। वहीं उन्होंने कहा कि गौतम बुद्ध की शिक्षाएं हमें बुद्धि और विवेक से धर्म का आचरण करते हुए टीम भावना के लिए प्रेरित करती हैं। 

      मुख्यमंत्री ने उपाधि प्राप्त करने वाले विश्वविद्यालय के सभी छात्र/छात्राओं को शुभकामनाएं देते हुए उनके उज्ज्वल और मंगलमय भविष्य की कामना की। उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय का नामकरण भगवान गौतम बुद्ध के नाम पर हुआ है। बुद्ध के जीवन में हमें बहुत सी विशेषताएं देखने को मिलती हैं। उन्होंने जीवन के जिन रहस्यों को उद्घाटित किया था, वो हर मनुष्य के इर्द-गिर्द घटती हैं। बुद्ध ने हमें सिखाया है कि हमें समस्याओं को स्वीकारना आना चाहिए। जैसे ही हम समस्या को स्वीकार करते हैं तो उसके समाधान का रास्ता भी तलाशना होता है। अक्सर होता ये है कि हम समस्या को ही स्वीकार नहीं करते। हमारी विफलता का रहस्य समस्या से मुंह मोड़ने में ही छिपा है। उन्होंने कहा कि बुद्ध का जीवन ना सिर्फ प्रेरणादायी है, बल्कि देश और दुनिया को नई राह दिखाने वाला भी है। 

      मुख्यमंत्री ने कहा कि दीक्षांत उपदेश भारत की गुरुकल परंपरा से आई है, जिसमें एक गुरु शिक्षा के उपरांत अपने शिष्य को उपदेश देता है कि तुमने जो भी ज्ञान प्राप्त किया है, उसका सार यही है कि सत्य बोलो और धर्म के मार्ग पर चलो। बुद्ध भी कहते हैं कि धर्म की शरण में जाओ। धर्म पूजा पद्धति नहीं है, बल्कि सदाचार, नैतिक मूल्य और कर्तव्य का समन्वित रूप है। ये हर देश, काल, परिस्थिति में समान रहता है। उपासना पद्धति देश, काल और परिस्थितियों के अनुसार बदलती रहती है। मगर धर्म शाश्वत व्यवस्था है। बुद्ध ने अपने प्रत्येक अनुयायियों को बुद्ध यानी बुद्धि-विवेक की शरण में जाने के लिए कहा है। इसके अलावा उन्होंने संघ की शरण यानी टीम भावना के साथ कार्य करने के लिए कहा है। विश्वविद्यालय हो, उद्योग जगत हो या परिवार, टीम वर्क हमेशा परिणाम देता है। वही टीम परिणाम देती है जो वन लीडरशिप में कार्य करती है। बुद्ध का उपदेश मानवता के कल्याण का मार्ग खोलती है। 

      उन्होंनें उपाधि प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों से कहा कि विश्वविद्यालय के बाद अनंत संभावनाएं आपका इंतजार कर रही हैं। युवा पीढ़ी को ही विश्व का हित तय करना है। उन्होंने कहा कि हमारे शिक्षण संस्थानों को केवल डिग्री बांटने का सेंटर नहीं बनना चाहिए। शिक्षण संस्थानों का निर्माण समाज के सहयोग से प्राप्त पैसों से होता है, तो हमें माता, पिता और गुरु के प्रति कृतज्ञता का भाव तो रखना ही है, साथ ही साथ समाज के प्रति भी कृतज्ञ होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय ने जेवर एयरपोर्ट के सोशल इम्पैक्ट स्टडी का कार्य किया। इससे फैकल्टी और छात्रों को नया अनुभव तो हुआ ही साथ ही विश्वविद्यालय को आर्थिक लाभ भी हुआ। उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थाओं का इंडस्ट्री के साथ जुड़ाव होना और रिसर्च एंड डेवलपमेंट के साथ ही इनोवेशन सेंटर के रूप में कार्य करना होगा। 

       इस अवसर पर प्रदेश सरकार में औद्योगिक विकास मंत्री नंद गोपाल गुप्ता(नंदी), लोक निर्माण विभाग के राज्यमंत्री बृजेश सिंह, पुलिस आयुक्त लक्ष्मी सिंह, जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा, कुलपति प्रो0 रविन्द्र कुमार सिन्हा, डीन एकेडमिक प्रो0 एमपी मलकानिया, प्राधिकरणों के मुख्य कार्यपालक अधिकारी व पुलिस विभाग, जिला प्रशासन एवं प्राधिकरण के वरिष्ठ अधिकारीगण, विश्वविद्यालय के फैकल्टी मैंबर्स और उपाधि प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राएं मौजूद रहे।

       

Popular posts
विश्व जैन संगठन मैं फ्री हेल्थ चेकअप कैंप का आयोजन किया
Image
विश्व में पत्रकारिता का आरंभ सन 131 ईस्वी पूर्व रोम में हुआ था उसी वर्ष से पहला दैनिक समाचार-पत्र निकलने लगा जिसका नाम था " ऐकटा डुरीना
Image
राष्ट्रीय अध्यक्ष बलराज भाटी ने 21 फरवरी को महापंचायत का ऐलान करते हुए रक्षा मन्त्री राजनाथ सिंह के दिल्ली आवास के घेराव के लिए दिल्ली कूच का आव्हान किया
Image
सेक्टर 34 में बहुत ही धूमधाम से मनाई गई बसंत पंचमी
Image
भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सैयद जफर इस्लाम के नेतृत्व में हस्तशिल्प निर्यातकों के एक प्रतिनिधिमंडल ने निर्मला सीतारमण मिले
Image