17वां इंडियन फैशन ज्वैलरी एंड एसेसरीज फेयर - आईएफजेएएस इंडिया एक्सपो सेंटर एंड मार्ट में

17वां इंडियन फैशन ज्वैलरी एंड एसेसरीज फेयर - आईएफजेएएस 2023, 26-28 जून 2023; इंडिया एक्सपो सेंटर एंड मार्ट, ग्रेटर नोएडा, दिल्ली-एनसीआर. भविष्य के रुझानों पर एक नज़र


आईएफजेएएस - फैशन आभूषण, एसेसरीज से लेकर परिधान तक फैशन सोर्सिंग के लिए दुनिया भर से खरीदारों को आकर्षित करने वाला एक अनोखा व्यापार शो


ग्रेटर नोएडा (अमन इंडिया ) ।  हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद (ईपीसीएच) द्वारा आयोजित इंडियन फैशन ज्वैलरी एंड एसेसरीज फेयर - आईएफजेएएस 2023 का 17वां संस्करण 26 जून, 2023 को इंडिया एक्सपो सेंटर एंड मार्ट, ग्रेटर नोएडा में विदेशी खरीदारों, सोर्सिंग पेशेवरों के साथ-साथ घरेलू वॉल्यूम खुदरा खरीदारों के लिए भी खुलने वाला है। यह सेक्टर एक्सक्लूसिव शो आकर्षक विजुअल मर्चेंडाइजिंग द्वारा बनाए जीवंत कई डिजाइनों, शैलियों और अवधारणाओं के साथ दुनिया भर के खरीदारों को उत्साहित करता है। हर व्यक्ति पर सजने वाली सुरुचिपूर्ण और सूक्ष्म सजावट, चमकदार और कला से प्रेरित आभूषण और ज्यामितीय आकार, प्रभावशाली नए लुक वाले सहायक उपकरण, आईएफजेएएस में आकर्षक और समृद्ध डिजाइनों की एक पूर्ण विकसित प्रवृत्ति का संकेत देते हैं।


ईपीसीएच के महानिदेशक और आईईएमएल के अध्यक्ष डॉ. राकेश कुमार ने बताया कि यह संस्करण फैशन ज्वैलरी, फैशन सामग्री और आभूषण आयोजक, फैशन सहायक उपकरण और बैग, फैशन सहायक उपकरण और बैग, चमड़ा सहायक उपकरण और जूते जैसे व्यापक उत्पाद श्रृंखलाओं से बना है। अन्य संपार्श्विक गतिविधियों के बीच डिजाइन और प्रवृत्ति पूर्वानुमान थीम मंडप, क्षेत्रीय खजाने, दैनिक रैंप अनुक्रम, लाइव शिल्प प्रदर्शन से निर्मित है।


उन्होंने आगे कहा, दिल्ली, आगरा, नोएडा, मुंबई, लखनऊ, जयपुर, मुरादाबाद, फ़रीदाबाद, गुड़गांव, कोलकाता, वाराणसी और उन सभी शहरों के साथ-साथ फैशन ज्वैलरी और संबंधित उत्पादों के उत्पादन समूहों से क्षेत्रीय विशेषज्ञता की अभिव्यक्तियों के साथ 150 से अधिक निर्माता इस आयोजन में अपने कला संग्रह प्रदर्शित करते हैं। यह आयोजन खरीदारों के लिए फैशन आभूषणों के साथ एक विस्तृत उत्पाद श्रृंखला का पता लगाने का एक अनूठा अवसर है I इन कला उत्पादों में अर्ध कीमती आभूषण; बेल्ट और बटुए; हैंड बैग और पर्स; फैशन के सामान; हेड एंड हेयर एसेसरीज उपकरण; स्टोल और स्कार्फ; शॉल; कशीदाकारी, बीड्स एंड सेक्विंड एसेसरीज और फैंसी जूते। 


आईएफजेएएस में कला उत्पादों के अवयव की भी मांग होती है क्योंकि विभिन्न बाजारों से कई आयातक समुदाय विशेष रूप से भारत से अपने आभूषण उत्पादों के लिए अवयव की सोर्सिंग करना पसंद करते हैं। कपड़े के उत्पादों में स्कार्फ, स्टोल और शॉल हैं, जो कढ़ाई, विभिन्न तरह की प्रिंटिंग तकनीकों, बैटिक, टाई और डाई, एप्लिक आदि से सुसज्जित उत्पादों की मांग होती है। इसके साथ ही सभी अवसरों के लिए बैग और हाथ से तैयार किए गए जूते के उत्कृष्ट संग्रह भी हैं। टिकाऊ और पर्यावरण-अनुकूल उत्पादों की बढ़ती पेशकश की बहुत मांग है।


ईपीसीएच के अध्यक्ष श्री दिलीप बैद ने बताया, “यह शो 2030 तक हस्तशिल्प निर्यात को तीन गुना वृद्धि हासिल करने के हमारे लक्ष्य – “तीन गुना से तीस गुना तक” की दिशा में एक कदम है। इस आयोजन के व्यापक प्रचार के लिए, परिषद ने अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं, उनके डिजिटल प्रकाशनों, ऑनलाइन पोर्टलों, वेब बैनरों आदि में विज्ञापनों और लेखों के माध्यम से दुनिया भर में व्यापक डिजिटल प्रचार अभियान चलाया है। इसके अलावा, विभिन्न देशों में अपने-अपने भारतीय दूतावासों ने खरीदारों और आयातकों को निमंत्रण दिया है। सोशल मीडिया पर भी मेले का खूब प्रचार-प्रसार किया गया है। पूर्व-पंजीकृत खरीदारों में हम अपने अधिकांश संरक्षकों के साथ-साथ पहली बार खरीदने वाले भी शामिल हैं।''


ईपीसीएच के तत्काल पूर्व अध्यक्ष श्री राज कुमार मल्होत्रा ने कहा, "भारत भर के अग्रणी निर्माताओं द्वारा प्रदर्शन के अलावा, अखिल भारतीय कारीगरों के फैशन ज्वैलरी एंड एसेसरीज को दर्शाने वाले थीम मंडप विदेशी खरीद समुदाय के लिए आकर्षण के बीच होंगे।" उन्होंने आगे कहा, "भारत के विविध और प्रमुख आपूर्तिकर्ताओं से फैशन ज्वैलरी और एक्सेसरीज़ की सोर्सिंग के लिए एक प्रीमियम ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के रूप में स्थापित, आईएफजेएएस सोर्सिंग शो में प्रमुख है।"


इस अवसर पर इफ्जास-23 के अध्यक्ष श्री अमित जैन ने कहा, “यह चेन/डिपार्टमेंटल स्टोर्स, थोक विक्रेताओं, आयातकों, वितरकों, खुदरा विक्रेताओं, डिजाइनरों, व्यापारियों, ट्रेंड फोरकास्टर्स और बाइंग हाउस वालों के लिए खरीदारी का एक अनूठा अवसर है। अपने पिछले संस्करणों में, आईएफजेएएस विभिन्न आयातक देशों से विशेष रूप से फैशन आभूषण और सहायक उपकरण में व्यापार करने वाले गुणवत्ता वाले खरीदारों को आकर्षित कर रहा है।”


मेले के इस संस्करण में अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, अजरबैजान, बेल्जियम, ब्राजील, बुल्गारिया, कनाडा, चिली, कोलंबिया, डेनमार्क, मिस्र, फ्रांस, जर्मनी, घाना, ग्रीस हंगरी, आइसलैंड, इज़राइल, इटली, जमैका, जापान, जॉर्डन, केन्या, कुवैत, लेबनान, लीबिया, लिथुआनिया, मॉरीशस, मैक्सिको, नीदरलैंड, न्यूजीलैंड, ओमान, फिलिस्तीन, पनामा, पेरू, पोलैंड, पुर्तगाल, कतर, रूस, सऊदी अरब, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, स्पेन, श्रीलंका, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, ताइवान, ताजिकिस्तान, तुर्की, संयुक्त अरब अमीरात, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका, उरुग्वे, वियतनाम आदि सहित लगभग 60 देशों के खरीदारों द्वारा आने की संभावना है। 


कंपनियों/डिपार्टमेंटल स्टोर्स के जिन खरीदारों ने पहले ही शो में आने की पुष्टि कर दी है, उनमें रैप्सोडिया - लास ब्लोंडास एस.ए और एरिस्टाइड्स एसए, अर्जेंटीना शामिल हैं; अज़रबैजान सुपरमार्केट और बाकू राहत मार्ट एलएलसी, अज़रबैजान; वलसा और जूजस अमुस, फ्रांस; लैटिट्यूड 9 एसआरएल, इटली; वेनिला, अमीना कलेक्शन कंपनी  लिमिटेड, अंगूथी, जापान; अल मुस्बा ग्रुप, सऊदी अरब; स्पेंस और मॅई, दक्षिण अफ़्रीका; साइनेस ग्रिमाल्ट आर्टेसानिया, एस.ए., बोच एस.ए., टैंट्रेंड बिजौक्स एसएल, स्पेन; एक्सेसरीज बय पार्क लेन लिमिटेड, माई डोरिस लिमिटेड, यूनाइटेड  किंगडम; जेड एंड एल यूरोप कॉर्प, टू कंपनी, सोरेल्ली, इंक, यूएसए और कई अन्य ईपीसीएच के कार्यकारी निदेशक श्री आर.के. वर्मा ने सूचित किया।


इंडिया इंटरनेशनल गारमेंट फेयर - आईआईजीएफ भी इसी जगह और समवर्ती रूप से आयोजित किया जाएगा। यह परिधान निर्यात संवर्धन परिषद द्वारा एक परिधान पर आधारित विशेष शो है और आईएफजेएएस के उत्पाद प्रोफ़ाइल का पूरक है। इससे आने वाले खरीदारों को क्रॉसओवर सोर्सिंग का अवसर मिलता है। चूंकि परिधान और फैशन एसेसरीज और कई अवसरों पर फैशन आभूषण भी, साथ में प्रदर्शित किए जाते हैं, जिससे उपभोक्ताओं को 'लुक' पूरा करने की सुविधा मिलती है। यह सुविधा दोनों शो के खरीदारों और प्रदर्शकों के लिए फायदेमंद होगी क्योंकि वे विकास के लिए नए बाजार संबंधों और विस्तार की नई संभावनाओं का पता लगाने में सहायक है।


हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद देश से हस्तशिल्प के निर्यात को बढ़ावा देने और होम, जीवनशैली, कपड़ा, फर्नीचर और फैशन आभूषण और एसेसरीज के उत्पादन में लगे देश के विभिन्न शिल्प समूहों में लगे लाखों कारीगरों और शिल्पकारों के प्रतिभाशाली हाथों के करिश्माई उत्पादों की ब्रांड छवि बनाने के लिए एक नोडल संस्थान है। इस अवसर पर ईपीसीएच के कार्यकारी निदेशक श्री आर. के. वर्मा ने सूचित किया वित्तीय वर्ष 2022-23 के दौरान हस्तशिल्प निर्यात 30019.24 करोड़ (3728.47 मिलियन अमेरिकी डॉलर) रहा।

Popular posts
नोएडा पंजाबी एकता समिति द्वारा गुरद्वारा में बैसाखी का उत्सव बहुत ही धूमधाम से मनाया गया
Image
सीके बिड़ला हॉस्पीटल®, दिल्ली ने जटिल और एडवांस ब्रैस्ट कैंसर से पीड़ित दो महिला मरीजों का रोबोटिक-एसिस्टेड ब्रैस्ट प्रीज़र्वेशन सर्जरी की मदद से सफल उपचार किया
Image
लिवर सिरोसिस में शराब की एक बूंद भी नुकसानदेह
Image
फिजिक्स वाला ने दिल्ली में अपना पाँचवाँ टेक-इनेबल्ड ऑफ़लाइन विद्यापीठ सेंटर लॉन्च किया
भाजपा का संकल्प अगले 5 वर्षों तक मुफ्त राशन, गैस कनेक्‍शन और PM सूर्य घर से जीरो बिजली बिल का सपना होगा साकार, फिर एक बार मोदी सरकार
Image