61 मॉनिटर लिजर्ड"गोह" का देशभर में हुआ शिकार


नोएडा(अमन इंडिया)। गाँवों में अक्सर 'गोह' या 'गुहेरा' के नाम से विख्यात इस जीव से लोग बेहद डरते हैं , कई बार इन्हे ज़हरीला मानकर इन्हे मार दिया जाता है , जबकि एक्सपर्ट्स का यह कहना है के यह ज़हरीली नहीं होती , यहाँ तक की इनका शिकार भी किया जाता है , जबकि यह वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 की प्रथम अनुसूची में संरक्षित प्रजाति है जो विलुप्तप्राय जीवों में आता है। नॉएडा के गाँवों में एवं आसपास भी यह पाई जाती है। समाजसेवी एवं पर्यावरण कार्यकर्ता  रंजन तोमर द्वारा वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो में लगाई गई एक आरटीआई द्वारा इसके शिकार सम्बन्धी कई जानकारियां सामने आई हैं। पिछले पांच वर्षों में किये गए मॉनिटर लिज़र्ड के शिकार की जानकारी देते हुए ब्यूरो कहता है की राज्यों एवं पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार पिछले 5 वर्षों में कुल 61 गोह का शिकार हुआ जिनमें 2016 में जहाँ मात्र 4 ऐसे केस आये , 2017 में 16 , 2018 में फिर 16 ,2019 में 15 जबकि 2020 में यह आंकड़ा 15 रहा , अर्थात कुल 61 मॉनिटर लिज़र्ड की हत्या इस दौरान की गई है।   गोह (Monitor lizard) सरीसृपों स्क्वामेटा (Squamata) गण के वैरानिडी (Varanidae) कुल के जीव हैं, जिनका शरीर छिपकली के सदृश, लेकिन उससे बहुत बड़ा होता है।

गोह छिपकिलियों के निकट संबंधी हैं, जो अफ्रीका, आस्ट्रेलिया, अरब और एशिया आदि देशों में फैले हुए हैं। ये छोटे बड़े सभी तरह के होते है, जिनमें से कुछ की लंबाई तो 10 फुट तक पहुँच जाती है। इनका रंग प्राय: भूरा रहता है। इनका शरीर छोटे छोटे शल्कों से भरा रहता है। इनकी जबान साँप की तरह दुफंकी, पंजे मजबूत, दुम चपटी और शरीर गोल रहता है।

गोह जब दौडती है तब पूछ ऊपर उठा लेती है। गोह मेंढक, कीडे-मकोडे, मछलियाँ और केकडे खाती है। यह बडी गुस्सैल स्वभाव की है। गोह आजकल बरसात से पहले किसी बिल या छेद में १५ से २० तक अडे देती है। मादा अंडों को छिपाने के लिए फिर भर देती है और बहकाने के लिए चारों ओर दो-तीन और बिल खोदकर छोड देती है। आठ नौ महीने के बाद कहीं सफेद रग के अंडे फूटते है। छोटे बच्चों के शरीर पर बिंदिया, व चमकदार छल्ले होते है। गोह पानी में रहती है। तराकी में दक्ष है यह, साथ में तेज धावक व वृक्ष पर चढने में माहिर हैोती है। पुराने समय में जो काम हाथीघोडे नहीं कर पाते थे, उसे गोह आसानी से कर देती थी। इनकी कमर में रसा बाधकर दीवार पर फेंक दिया जाता था और जब ये अपने पंजों से जमकर दीवार पकड लेती थी, तब रस्सी के सहारे ऊपर चढ जाते थे।

Popular posts
डीएफएम फूड्स के सहयोग से ममता हेल्थ इंस्टीट्यूट फॉर मदर एंड चाइल्ड द्वारा संचालित परियोजना सजग के अंतर्गत समाजसेवी सम्मानित किया
Image
पाँच साल के लिये सांसद विधायक बनने पर पेंशन मिल सकती है फिर चार वर्ष के अग्निवीरों को देश की रक्षा के दौरान प्राण न्यौछावर करने पर भी पेंशन क्यों नही:अशोक कमांडो
Image
रोटरी क्लब ओफ़ नॉएडा सेंट्रल ने मनाई 25वीं वर्षगांठ
Image
AATITHYAM रेस्तरां एच ए- 102 पहली मंजिल हाजीपुर सेक्टर 104 लोगों को दे रहा है लजीज व्यंजन:मनीष
Image
हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद ने 23वें हस्तशिल्प निर्यात पुरस्कार समारोह का आयोजन किया
Image