नोएडा अथॉरिटी फेलिक्स हॉस्पिटल को स्वच्छ रैंकिंग कॉम्पटिशन मे मिला पहला स्थान

 



नोएडा(अमन इंडिया)।फेलिक्स अस्पताल को स्वच्छ अस्पताल की श्रेणी में नोएडा शहर में 0ctober से दिसंबर 2019 तक 3 तिमाही के लिए स्वच्छता और अपशिष्ट प्रबंधन के विभिन्न मापदंडों पर आयोजित स्वच्छ्ता रैंकिंग प्रतियोगिता में पहले स्थान पर रखा गया है। नॉएडा अथॉरिटी द्वारा , स्वच्छ भारत रैंकिंग 2020 के अनुपालन में स्वच्छ्ता रैंकिंग का आयोजन किया गया । स्वच्छ भारत मिशन के जनादेश के नियमो के तहत, सभी अस्पतालों को अच्छी तरह से स्वच्छ और साफ-सुथरा बनाना और स्वस्थ, नियंत्रित वातावरण के बड़े लक्ष्य की ओर बढ़ना सम्मिलित है।


फेलिक्स अस्पताल का एक मात्र लक्ष्य कर्मचारियों, रोगियों और आगंतुकों को एक स्वस्थ वातावरण प्रदान करना है । इसी को ध्यान मे रखते हुए अस्पताल में संक्रमण से बचाव के लिए इन्फेक्शन कंट्रोल के नियमों को पूर्ण रूप से लागू किया गया साथ ही स्वास्थ्य मंत्रालय एवं राज्य सरकार की जो गाइड लाइन्स है उनको सभी विभागों में पूर्णतया लागू करते हुए , सभी कर्मचारियों को इन गाइड लाइन्स के बारे में प्रशिक्षण भी कराया गया।इन गाइड लाइन्स के अनुसार फेलिक्स अस्पताल में मरीजों एवं कर्मचारियों के लिए अलग अलग प्रवेश द्धार बनाये गये एवं अस्पताल के मुख्य द्धार पर हाथ धोने/हाथ सैनेटाइज करने की सुबिधा दी गयी है।


सभी इनडोर क्षेत्र जैसे प्रवेश द्वार लॉबी, गलियारे और सीढ़ी, लिफ्ट, सुरक्षा गार्ड बूथ, कार्यालय कक्ष, बैठक कक्ष, OPD, कैफेटेरिया को नियमित रूप से कीटाणुरहित और साफ-सुथरा किया जाता है। और सैनिटाइज़िंग स्टेशन कार्यालय परिसर (विशेष रूप से प्रवेश पर) और निकट में स्थापित किए गए हैं उच्च संपर्क सतहों। मरीजों के वार्ड, लैब, केबिन और वॉशबेसिन और कमोड सहित टॉयलेट क्षेत्रों के साथ-साथ सभी कमरों में सावधानीपूर्वक सफाई की जाती है। सेनेटरी कर्मचारी शौचालय की सफाई करते समय डिस्पोजेबल सुरक्षात्मक दस्ताने पहनते हैं।


उच्च संपर्क सतहों जैसे कि लिफ्ट बटन, हैंड्रिल / हैंडल और कॉल बटन, एस्केलेटर हैंड्रिल, पब्लिक काउंटर, इंटरकॉम सिस्टम, टेलीफोन, प्रिंटर / स्कैनर जैसे उपकरण और अन्य कार्यालय मशीनें कीटाणुनाशक के साथ नियमित आधार पर साफ की जाती हैं।


 डॉ। गुप्ता ने आगे बताया कि फेलिक्स होपिटल एक नॉन-कोविड् अस्पताल है। न केवल अस्पताल प्रबंधन बल्कि मरीजों और आगंतुकों से भी उम्मीद की जाती है कि वे अस्पताल के वातावरण की स्वच्छता को बनाए रखने में योगदान दें, इसके लिए समय-२ घोसना होती है जैसे अपने हाथ धोते रहे ,या तो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कचरे के डिब्बे का उपयोग करके, अस्पताल जाने से पहले और बाद में अस्पताल के मानदंडों का पालन करे , थूकना और कूड़ेदान का प्रयोग करना। परिसर के भीतर धूम्रपान नहीं करना, आदि।


हम आपकी सुरक्षा का आश्वासन देने के लिए हर संभव कदम उठाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम आंतरिक नियमों और सुरक्षा प्रोटोकॉल के सख्त अनुपालन में हर तरह की स्थितियों से निपटने का इरादा रखते हैं। हमारा मानना है कि यह सभी प्रक्रिया हमारे लिए यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक है कि हमारी सभी सुविधाएं सुरक्षित हैं | आपकी सुऱक्षा हमारी जिम्मेदारी है | 


 


Popular posts
एन आर डब्ल्यू ए सेक्टर 15 के चुनाव में निर्विरोध जीते अध्यक्ष सहित सभी पदाधिकारियों को प्रमाण पत्र दिए
Image
ग्रेटर नोएडा वेस्ट फ्लैट बॉयर्स की संस्था नेफोमा ने अधूरे पड़े प्रोजेक्ट के लिए मीटिंग की
Image
फोर्टिस बोन एंड ज्‍वाइंट इंस्‍टीट्यूट, शालीमार बाग ने अपनी ऑर्थोपिडिक सेवाओं को मजबूत किया
Image
हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद ने 23वें हस्तशिल्प निर्यात पुरस्कार समारोह का आयोजन किया
Image
डीएफएम फूड्स के सहयोग से ममता हेल्थ इंस्टीट्यूट फॉर मदर एंड चाइल्ड द्वारा संचालित परियोजना सजग के अंतर्गत समाजसेवी सम्मानित किया
Image