मुसलमान उत्तर प्रदेश के नवनिर्माण में योगी के साथ: इरफान अहमद


 


शिकंजा कसता है माफिया गुंडों पर, वो योगी को मुसलमान विरोधी बता आम मुसलमानों को डराते हैं 


लखनऊ (अमन इंडिया)। अल्पसंख्यक मामलों के जानकार व भाजपा नेता इरफान अहमद ने एक बयान जारी कर कहा है कि उत्तर प्रदेश का ही नहीं बल्कि देश का मुस्लिम समाज राष्ट्र के नवनिर्माण में भाजपा के साथ है। क्योंकि भाजपा एक ऐसी राष्ट्रीय पार्टी है, जो सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास सबका प्रयास के साथ कार्य कर रही है। प्रत्यक्ष को प्रमाण की कभी आवश्यकता नहीं होती है। उन्होंने कहा कि मैं हर समय अपने समाज से रूबरू रहता हूँ। आम मुसलमान की आंखों में मै खुद पढ़ता और देखता हूँ। उत्तर प्रदेश में योगी की सरकार ने सभी वर्गों का ख्याल रखा है। सरकार बनने के तुरंत बाद योगी जी ने मदरसों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं के लिए ड्रेस एवं पुस्तकों की घोषणा की थी। परंतु कुछ कट्टरपंथी मुस्लिम समाज के लोगों द्वारा उसका विरोध किया गया। जबकि शांतिप्रिय मुस्लिम समाज ने उसकी प्रशंसा की। परंतु योगी की सरकार ने मुस्लिम समाज का विशेष ख्याल रखा और किसी भी योजना से वंचित नहीं किया। आज उत्तर प्रदेश में योगी की सरकार ने चौमुखी विकास कर मुस्लिम समाज ही नहीं बल्कि सभी समाज के लोगों का ख्याल रखा है। क्योंकि उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी गरीबी रेखा के नीचे आती है। भारत सरकार एवं योगी सरकार द्वारा चलाई गई योजनाओं द्वारा उन मुस्लिम गरीब, मज़दूर परिवारों को Labh मिल रहा है। जो मेहनत मजदूरी कर अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। जो गरीब था, ईमानदार था, दस्तकार था, कारीगर था, मज़दूर था, बेरोजगार था, भूखा व बेघर था वह सब भाजपा के साथ हैं। भारत सरकार व योगी सरकार की योजनाएं चाहे वह शौचालय योजना हो, जन-धन की योजना हो, अनाज वितरण की योजना हो, उज्जवला गैस योजना हो, आयुष्मान योजना हो, प्रधानमंत्री आवास योजना हो, सुकन्या योजना हो, ई-श्रमिक कार्ड योजना हो, सभी योजनाओं का लाभ उन मुस्लिम परिवारों को मिला है, जिन्हें 65 वर्षों से सरकारी योजनाओं से महरूम रखा गया था। मोदी-योगी सरकार में सबसे ज्यादा फायदा मुस्लिम समाज को हुनर हाट के माध्यम से अपने हुनर की प्रदर्शनी लगाकर उनको मनचाहे दामों पर बेचकर अपने-अपने परिवारों का उत्तम तरीके से पालन पोषण कर रहे हैं। रोजगार के लिए अल्पसंख्यक समाज को इससे अच्छी योजना किसी भी सरकार ने नहीं दी। फिर भी आज उत्तर प्रदेश में मुस्लिम समाज का एक वर्ग ऐसा भी है। जो अपने एजेंडा एवं अपने निजी स्वार्थ के तहत भाजपा का विरोध करता रहता है। उसे ना देश से मतलब है, ना ही मुस्लिम समाज से कोई सरोकार है और ना ही उन गरीब मजदूर लोगों से हैं, जो अपने रोजी रोटी के लिए दर-दर ठोकरें खा रहे हैं। परंतु जो गरीब, मजदूर, असहाय मुस्लिम समाज है वह भाजपा द्वारा  जनमानस के हित में चलाई जा रही योजनाओं से लाभ उठाकर अपना जीवन यापन कर रहा है। इसीलिए वह भाजपा के साथ खड़ा होकर उत्तर प्रदेश के नवनिर्माण में अपना योगदान देने के लिए हर संभव कोशिश कर रहा है। 



पिछली सरकारों में जिन मुस्लिम बाहुबली नेता एवं भू-माफियाओं ने उत्तर प्रदेश में आतंक मचा रखा था उत्तर प्रदेश में योगी सरकार आते ही योगी जी ने उन बाहुबलियों को और भू-माफिया को मजबूर कर दिया, या तो वह प्रदेश छोड़ दें या अपना जीवन इमानदारी से बिताएं। आज उत्तर प्रदेश में भू माफियाओं एवं बाहुबलियों को योगी सरकार द्वारा जेल में डाल कर उनकी संपत्तियों पर बुलडोजर चलाकर, उनके अवैध साम्राज्य को खत्म कर, वसूली कर सरकार के राजस्व को बढ़ाने का कार्य किया है। जिससे कि आज प्रदेश को भय मुक्त कर आम जनता को सुरक्षा मुहैया कराने में योगी जी सरकार का अहम योगदान है। अब जब इन बाहुबली माफिया डॉन पर सख्त कार्यवाही होती है तो ये मुसलमान पर अत्याचार की दुहाई देने लगते हैं। ऐसे में बेचारे साधारण मुसलमान को योगी का नाम लेकर डराते हैं। जबकि योगी सरकार में साधारण मेहनतकश मुसलमान मजे से अपना जीवन जी रहा है। इस सरकार में ना कोई दंगा है, ना भ्रष्टाचार है। क्योकि दंगे और भ्रष्टाचार में सबसे ज्यादा आम मुसलमान ही पिसता है।  आम मुसलमान योगी राज में बहुत खुश है। क्योंकि आम मुसलमान के बच्चे को शिक्षा मिली, रसोई को सिलेंडर मिला, कोरोना काल में भूखे को अनाज मिला, बेघर को छत्त मिली, बीमार को मुफ्त इलाज व दवा मिली। कोई बताए तो सही कि योगी के राज में एक भी मुसलमान भूख से मरा हो। मुसलमानों के लिए यह प्रदेश का आज़ादी के बाद का सबसे स्वर्णिम युग है। दरअसल आम मुसलमान के दुश्मन मुसलमान गुंडे, माफिया हैं। जो अपने स्वार्थ के लिए गलत हरकतों से आम मुसलमान की छवि खराब करते हैं। जब पकड़े और रगड़े जाते हैं तो योगी को मुसलमान का दुश्मन बताते हैं।