देश भक्त होने का रमेश विधुडी से प्रमाण पत्र किसानो व जवानो को जरूरत नही - हर चरण सिंह बल्ली



नई दिल्ली (अमन इंडिया)। विगत दिनो रमेश विधुडी के बयान को सुनकर पुरा देश आश्चर्यचकित हैं, जनता के चुने हुए संसद सदस्य ने आरोप लगाते हुए राष्ट्रीय राजधानी के अलग-अलग मंडलों में किसानों पर आरोप लगाते हुए कहा कि वे खालिस्तानवादी, अलगाववादी और राष्ट्र विरोधी बीआईपी नेता हैं जो हर विपक्षी की ब्रांडिंग करने की आदत डाल रहे हैं। इन आरोपों के साथ हम ने कहा कि किसानों और विशेष रूप से सिखों को अपने घर की भूमि के प्रति अपनी वफादारी साबित करने के लिए किसी से कोई प्रमाण पत्र प्राप्त करने की आवश्यकता नहीं है।  

 हमारी किसान की छवि धूमिल होती है तो हम अंत तक लड़ेंगे। श्री इस तरह के आरोप लगाने से पहले बिदुडी को इतिहास पढ़ना चाहिए। जब भी राष्ट्र को शत्रुतापूर्ण स्थिति का सामना करना पड़ा तो पंजाब हमेशा सबसे आगे रहा। राष्ट्रीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान पंजाबी लोगों की गिनती कुल शहीदों में 75 प्रतिशत थी। जेल में बंद स्वतंत्रता सेनानियों की कुल संख्या का 90 प्रतिशत किसान समुदाय से थे। अगर सांसद जी शहीद भगत सिंह, करतार सिंह सराभा या शहीद उधम सिंह के बलिदानों को भूल गए तो उनको और अध्ययन करने की जरूरत? यह भी तथ्य है कि सेना में शामिल होने वालों का एक बड़ा हिस्सा किसान परिवारों से है। चीन और 1965, 1971 और कारगिल युद्ध में पाकिस्तान के साथ 1962 के युद्ध में उनके द्वारा दिए गए बलिदान को हम कैसे भूल सकते हैं ? यहां तक ​​कि जब किसान दिल्ली के बोर्डर पर दिन-रात अपने वैध अधिकारों के लिए आंदोलन कर रहे हैं, तो उनके बेटे कश्मीर या उत्तर पूर्व जैसे अंतर्राष्ट्रीय बोर्डर्स या उग्रवाद क्षेत्रों में हमारी प्यारी मातृ भूमि की एकता और अखंडता को बनाए रखने और बचाने के लिए लड़ रहे हैं। इतिहास ने दुनिया के किसी भी हिस्से में इस तरह के शांतिपूर्ण विरोध को कभी नहीं देखा है, जहां बूढ़े लोग, महिलाएं, युवा और बच्चे भी बराबर हिस्सा ले रहे हैं। इस तीव्र ठंड की लहर और बारिश में सड़क के किनारे बैठे आंदोलनकारी समुदाय के जुनून को देखने के लिए, बिदुडी साहब को वहाँ ईमानदारी से दौरा करने की जरूरत है। जिससे वह किसानों की शिकायतों, आशंकाओं और सच्चाई को समझ पाएंगे। मिलनसार बिल। हम उनके आरोपों का भी खंडन करते हुए कहते है कि विदेशों से आये चंदे बेबुनियाद आरोप ना फैलाए।

यह जानना चाहिए कि इस नेक काम के लिए किसी के द्वारा किए गए प्रत्येक दान को किसान यूनियन नेताओं द्वारा मंच से हर रोज घोषित किया जाता है और उसी हिसाब से हम भाजपा सांसद से अपील करते है कि वह इस दुर्भावनापूर्ण बयान को वापस लें और दो दिनों के भीतर शांतिप्रिय किसानों से माफी मांगें अन्यथा हम 11.30 बजे उनके निवास के सामने धरना पर बैठने के लिए मजबूर होंगे।  

आने वाले शनिवार को यानी 9 जनवरी, 2021 को इसे एक खतरे के रूप में नहीं माना जाना चाहिए, यह एक चेतावनी है और हमारा यह कहने का मतलब है कि हम केंद्र सरकार से उन तीन विवादास्पद किसान विधेयकों को निरस्त करने की अपील करते हैं। जिन्होंने किसान और पूरे देश में अशांति नहीं फैलाई है। अंतरराष्ट्रीय मंचों के रूप में अच्छी तरह से। हम सभी जानते हैं कि ये बिल देश के छोटे और मझोले किसानों के हित में नहीं हैं। मोदी सरकार को अपने ऊंचे घोड़े से नीचे उतरना चाहिए और किसानों के समुदाय को कॉरपोरेट्स के चंगुल से बचाने के लिए अपने अहंकार को दूर करना चाहिए। किसानों की चिंताओं को दूर करके वर्तमान गतिरोध को हल करना सरकार की जिम्मेदारी है।

Popular posts
पीड़ितों की मदद शहर के 60 से ज़्यादा सामाजिक संगठनों का समूह पंहुचा रहा मदद
Image
उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल नोएडा इकाई और नोएडा स्टेशनरी वेलफेयर एसोसिएशन के सौजन्य से आज सेक्टर 5 स्थित हरौला लेबर चौक पर मास्क वितरण
Image
कांग्रेसियों ने बहलोलपुर आगजनी घटना से प्रभावित लोगों की हर संभव मदद करने की सरकार/जिला प्रशासन से की अपील
Image
प्राधिकरण के तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों का स्थानांतरण के सम्बंध मे विधायक से मिले विभिन्न संगठन
Image
इस IPL 2021 क्रिकेट सीजन में, क्रिकेट प्रशंसकों के लिए Amazon.in पर बनाए गए विशेष store के साथ घर को बनाएं स्टेडियम