सस्ती दवाएं कर सकती बच्चे को प्रभावित: डॉ रंजना

 माँ बनी और प्रेग्नेंट महिलाओं का कोविड ट्रीटमेंट: डाक्टरों की चेतावनी सस्ती दवाएं बच्चे को प्रभावित कर सकती हैं। एंटीवायरल प्रूवेन सेफ दवाओं का इस्तेमाल करें।


दिल्ली(अमन इंडिया)। ऐसे समय में जब कम लागत वाली दवाएं COVID- 19 वायरस के मध्यम लक्षणों का इलाज करने में सक्षम हैं और इस वजह से वह सुर्खियां बना रही हैं, तो वहीं दिल्ली-NCR के प्रमुख स्त्रीरोग विशेषज्ञों ने एंटीवायरल के उपयोग की सलाह दी है जो गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित साबित हो रही हैं, जो सस्ती दवा है वो भ्रूण और नवजात बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती हैं।


कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल के डॉ रंजना बेकन ने गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर फाविपिरवीर के प्रभाव का कोई वेरिफाइड डेटा नहीं है, यह बताते हुए कहा,"यह दवाई प्रेग्नेंट और स्तनपान कराने वाली महिलाओं या जिनकी किडनी और लीवर ख़राब हो, उन्हें नहीं दी जानी चाहिए। यह दवा उनको देनी चाहिए जिन्हें यूरिक एसिड या गाउट के मेटाबॉलिक एबनोर्मलिटी संबंधी प्रॉब्लम हो। द वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन की (WHO) ने COVID-19 की दवाओं के ऑफ-लेबल उपयोग को इनके मॉनीटर्ड एमर्जेन्सी यूज ऑफ़ अनरजिस्टर्ड एंड एक्सपेरिमेंटल इंटरवेंशंस (MEURI) के तहत अधिकृत करता है। कुछ दवाईयां जिनके रिजल्ट आये हैं जैसे रेमेड्सवियर, हालांकि सस्ती नहीं हैं, यह WHO की सॉलिडैरिटी ट्रायल का भी हिस्सा हैं। US FDA ने साफ़-साफ़ कहा है कि रेमेड्सवियर प्रेग्नेंसी में केवल तभी यूज करना चाहिए जब माँ और भ्रूण पोटेंशियल रिस्क के लिए पोटेंशियल बेनिफिट जस्टिफाई हो। कई एंटीवायरल हैं जो प्रेग्नेंट और स्तनपान कराने वाली महिलाओं में सुरक्षित रूप से यूज किया जा सकता है जो अभी भी और ट्रीटमेंट के पहले स्टेज में भी यूज की जा सकती है। "


सीड्स ऑफ़ इन्नोसेंस के फाउंडर डॉ गौरी अग्रवाल ने कहा, "सस्ती दवा जैसे फाविपिरवीर कोविड 19 वायरस के हलके माध्यम लक्षणों का इलाज में रिजल्ट अच्छा दे रही हैं लेकिन ये दवाएं प्रेग्नेंट और दूध पिलाने वाली महिलाओं को दी जाए तो बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती है। रिसर्च के अनुसार ये सस्ती दवाएं भ्रूण में कई एबनार्मल का कारण बनती है। हालांकि इसे डायबिटीज और हार्टबीमारियों जैसे कोमोर्बिडिटी वाले लोगों के लिए सुरक्षित माना गया है , जिनकी किडनी और लिवर से जुड़ी क्रोनिक और कोमोरिड कंडीशन है चाहे वो पुरुष हो या प्रेग्नेंट महीला या दूध पिलाने वाली महिला, उन्हें भी ये दवाईयां नहीं लेनी चाहिए।"


 


Popular posts
उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल नोएडा इकाई और नोएडा स्टेशनरी वेलफेयर एसोसिएशन के सौजन्य से आज सेक्टर 5 स्थित हरौला लेबर चौक पर मास्क वितरण
Image
पीड़ितों की मदद शहर के 60 से ज़्यादा सामाजिक संगठनों का समूह पंहुचा रहा मदद
Image
प्राधिकरण के तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों का स्थानांतरण के सम्बंध मे विधायक से मिले विभिन्न संगठन
Image
इस IPL 2021 क्रिकेट सीजन में, क्रिकेट प्रशंसकों के लिए Amazon.in पर बनाए गए विशेष store के साथ घर को बनाएं स्टेडियम
सतेन्द्र शर्मा ने बहलोलपुर आगजनी घटना से प्रभावित लोगों से मुलाकात कर हर संभव मदद का भरोसा दिया
Image